अन्य ग्रह से सूरज कैसा दिखता है?

अन्य ग्रह से सूरज कैसा दिखता है?

हमारी पृथ्वी से सूरज करीब 14,95,97,900 किलोमीटर दूर है। और यहाँ पर सूरज की रौशनी पहुँचने में करीब 18 मिनट और 20 सेकंड तक का समय लग जाता है। पृथ्वी से हम सूरज को रोज देखते हैं। और हमें पता है कि सूरज का आकार कैसा दिखता है?

सौरमंडल से अन्य ग्रहों से सूरज का आकार एक समान नजर नहीं आता है। कोई ग्रह से सूरज छोटा नजर आता है, तो किसी ग्रह से बहुत बड़ा नजर आता है। सूर्य से ग्रह करोड़ों किलोमीटर स्तिथ है। और इन्हीं अलग अलग दूरी की वजह से सराज का आकार भी अलग नजर आता है।

तो चलिए दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम अंतरिक्ष एजेंसियों के वैज्ञानिको द्वारा बनाये गए कुछ तस्वीरों से यह जानने की कोशिश करते हैं। कि आखिर अन्य ग्रहों से सूरज केसा नजर आता है।

बुध ग्रह (Mercury)

सबसे पहले हम शुरुवात करते हैं, सूर्य का सबसे नजदीकी बुध ग्रह से। बात करें सूर्य और बुध गेह की दूरी की। तो बुध सूर्य से करीब 5,79,09,100 किलोमीटर दूर है। बुध की जमीन से सूरज को देखने पर, सूर्य पृथ्वी पर, सूर्य की तुलना में तीन गुना आकार में बड़ा नजर आएगा। और साथ ही पृथ्वी से दिखने वाले सूर्य की तुलना में काफी ज्यादा चमकीला दिखेगा। बुध को सूरज का एक चक्कर लगाने में लगभग 88 दिन लेता है।

बुध ग्रह (Mercury)
                         बुध ग्रह (Mercury)

दिए गए तस्वीर में अगर आप देखे तो बुध की जमीन से सूर्य कुछ इस तरह नजर आएगा। यह तस्वीर कंप्यूटर द्वारा निर्मित है।

शुक्र गृह (Venus)

अब बात करते हैं शुक्र गृह की। सूर्य और शुक्र गृह की दूरी करीब 10,82,08,900 किलोमीटर दूर है। और यह सूर्य का एक चक्कर पूरा करने में करीब 225 दिन लग जाते हैं। चंद्रमा के बाद आकाश में सबसे चमकने वाला शुक्र गृह ही है। इसको पृथ्वी से आप अपनी खुली आँखों से भी देख सकते हैं।

शुक्र गृह को सौरमंडल के सबसे गर्म ग्रह मन जाता है। यह बुध ग्रह से भी ज्यादा गर्म है। इसका वातावरण बहुत ही गर्म है। इसके वातावरण में 95% कार्बनडाई ऑक्साइड मौजूद है। जो ग्रीन हाउस इफ़ेक्ट का प्रभाव पैदा करती है। जिस वजह से शुक्र गृह के सतह का औसत तापमान 462 डिग्री तक पहुंच जाता है।

शुक्र गृह के सतह से सूरज को देखने पर आपको सूरज की जगह धुंधली सी रौशनी नजर आएगी। जैसा की आप दिए गए तस्वीर में देख सकते हैं। यानि शुक्र गृह पर आपको सूरज दिखेगा ही नहीं।

शुक्र गृह (Venus)
                          शुक्र गृह (Venus)

इस ग्रह के घने सल्फुरिक एसिड के घने बादलों की वजह से सूरज को देख पाना मुश्किल है। इसकी सतह से देखने पर आपको केवल धुंधली सी रौशनी ही नजर आएगी। और सूरज आपको कभी नजर नहीं आएगा। जैसा की यह नजारा आप दिए गए तस्वीर में देख सकते हैं। क्यूंकि शुक्र ग्रह के घने वातावरण की वजह से सूर्य की 90% रौशनी प्रतिबिंबित हो जाती है।

पृथ्वी (Earth)

सूरज से पृथ्वी 14,95,97,900 किलोमीटर की दूरी पर है। वैसे आपको बताने की कोई जरूरत नहीं है, क्यूंकि पृथ्वी से आप खुद रोज देखते हैं। सौरमंडल में पृथ्वी एक मात्र ऐसा ग्रह है, जिस पर रहने लायक वातावरण है। दिए गए तस्वीर में आप देख सकते हैं कि हमारी पृथ्वी से सूरज केसा नजर आता है।

पृथ्वी (Earth)
                             पृथ्वी (Earth)

मंगल गृह (Mars)

अब बात करते हैं सूर्य से चौथा ग्रह मंगल की। यह ग्रह सूर्य से लगभग 22,79,40,500 किलोमीटर की दूरी पर है। मंगल ग्रह पृथ्वी की तुलना में सूर्य से अधिक दूर है। मंगल ग्रह की सतह से सूरज को देखने पर पृथ्वी से सूर्य की तुलना में थोड़ा छोटा नजर आएगा। मंगल ग्रह पर काफी अँधियाँ चलती है। जिस कारण मंगल ग्रह का वातावरण धुंधला है। जैसा कि आप दिए गए तस्वीर में देख सकते है।

 

पृथ्वी (Earth)मंगल गृह (Mars)
                           मंगल गृह (Mars)

बृहस्पति ग्रह (Jupiter)

अब आ जाते हैं सौरमंडल के सबसे बड़े बृहस्पति ग्रह पर। यह ग्रह सूर्य से 77,83,33,000 किलोमीटर की दूरी पर है। बृहस्पति ग्रह पर हमारी ग्रह पृथ्वी की तरह कोई ठोस सतह नहीं है। यह ग्रह पूरा का पूरा गैस से बना हुआ है। यह ग्रह बादलों की कई परतों से मिलकर बना हुआ है। यह बादल विभिन्न प्रकार की रासायनिक प्रक्रियाओं की वजह से रंग बिरंगे नजर आते हैं।

सूर्य से बृहस्पति ग्रह की ज्यादा दूरी होने के कारण यहाँ पर सूर्य की रौशनी पृथ्वी की तुलना में 27 गुना तक कम पहुँचती है। बृहस्पति ग्रह के बादलों की ऊपरी परत से देखने पर सूरज कुछ अलग ही नजर आता है। जो देखने पर पृथ्वी से सूर्य की तुलना में काफी छोटा है। दिए गए तस्वीर में आप देख सकते हैं, जो कि कंप्यूटर द्वारा निर्मित की गयी है।

बृहस्पति ग्रह (Jupiter)
                    बृहस्पति ग्रह (Jupiter)

शनि गृह (Saturn)

शनि गृह अपने रिंग की वजह से एक अलग पहचान के लिए जाना जाता है। यह भी बृहस्पति ग्रह की तरह गैसीय ग्रह है। और इसकी भी हमारी पृथ्वी की तरह कोई ठोस सतह नहीं है।

यह ग्रह सूर्य से करीब 1,42,69,78,222 किलोमीटर की दूरी पर है। जो की बहुत ही ज्यादा दूर है। शनि ग्रह पर पृथ्वी की तुलना में सूर्य की रौशनी 100 गुना कम पहुँचती है। इस ग्रह के वातावरण से सूर्य काफी सूंदर दिखता है। मगर पृथ्वी जितना चमकीला यह नहीं दिखता। जैसे की आप वैज्ञानिकों द्वारा बनाई गयी, कंप्यूटर निर्मित तस्वीर में देख सकते हो।

शनि गृह (Saturn)
                          शनि गृह (Saturn)

अरुण ग्रह (Uranus)

अरुण ग्रह सूर्य से 2,87,09,91,000 किलोमीटर दूर है। यह ग्रह भी एक गैसीय ग्रह है। यहाँ पर सूरज की रौशनी बहुत ही कम पहुँचती है। और इसके वायुमंडल से सूर्य से देखने पर काफी दूर दिखाई देता है।

वरुण ग्रह (Neptune)

यह ग्रह सूर्य 4.5 अरब किलोमीटर की दूरी पर है। इस ग्रह को सूर्य का एक चक्कर पूरा करने में 164 प्रथ्विय साल लग जाते हैं। वरुण ग्रह भी एक गैसीय ग्रह है। यहाँ से सूरज को देखने पर अरुण ग्रह की तुलना में थोड़ा छोटा दिखाई देता है।

इस ग्रह पर सूरज की रौशनी बहुत ही कम पहुँचती है। एक कंप्यूटर द्वारा निर्मित तस्वीर वरुण ग्रह के चाँद ट्राइटन से सूरज का नजारा देख सकते हैं।

वरुण ग्रह (Neptune)
                        वरुण ग्रह (Neptune)

प्लूटो (Pluto)

अब बात करते हैं प्लूटो की। तो अब यह ग्रह तो नहीं माना जाता है। 2006 में हुई एक एस्टॉनोमिकल बैठक में प्लूटो से ग्रह का दर्जा छीन लिया गया था। प्लूटो सूरज से करीब 5 अरब 93 करोड़ किलोमीटर दूर है। यहाँ पर सूरज की रौशनी बहुत ही कम मात्रा में पहुँचती है। जितना प्रकाश पृथ्वी पर पूर्णिमा की रात को होता है। उतना ही प्रकाश सूर्य से प्लूटो तक पहुचता है।

प्लूटो की जमीन से से सूर्य को देखने पर आकार में बहुत ही छोटा और बहुत ही कम चमकीला दिखाई देता है। और यहाँ पर सूरज का प्रकाश पृथ्वी की तुलना में 1600 गुना कम पहुँचता है। दिए गए तस्वीर में आप देख सकते हैं, जो कि कंप्यूटर द्वारा निर्मित है।

प्लूटो (Pluto)
                             प्लूटो (Pluto)

तो आज के इस आर्टिकल में हमने जाना कि अन्य ग्रहों से हमारा सूर्य केसा दिखता है। उम्मीद करते हैं कि आपको काफी कुछ सीखने को मिला होगा।


जरूर पढ़ें: सूरज के अंत के बाद सौरमंडल का क्या होगा?

Leave a Comment